About Us Contact Us October, 22-10-2018 , 21:07 PM          
   Weather temperature in Jammu, Jammu and >Kashmir, India

राष्ट्रीय

कलाम को श्रद्धांजलि देने पहुंचे पीएम मोदी, सचिन और सोनिया, 30 जुलाई को होगा अंतिम संस्कार


नई दिल्ली, 28 जुलाई: देश ने मंगलवार को पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि दी और सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और विभिन्न क्षेत्रों की हस्तियों ने उन्हें सच्चा सपूत और सच्चा रत्न कहते हुए श्रद्धांजलि दी। राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के साथ अनेक विशिष्ट व्यक्ति कलाम के राजाजी मार्ग स्थित आवास पर भी पहुंचे और भारत के सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपति कहे जाने वाले कलाम को श्रद्धासुमन अर्पित किये। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अनेक गणमान्य लोगों ने 83 वर्षीय कलाम को श्रद्धांजलि दी जिनकी पार्थिव देह शिलांग से यहां लाई गयी। उनका कल रात शिलांग में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। कलाम का पार्थिव देह पहले शिलांग से गुवाहाटी लाई गयी और गुवाहाटी से भारतीय वायुसेना के विशेष विमान से यहां लाई गयी। पालम टेक्निकल एरिया के टरमक पर तिरंगे में लिपटी उनकी पार्थिव देह को एक डेक पर रखा गया और गणमान्य लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। पूर्व राष्ट्रपति के पार्थिव शरीर को उनके 10, राजाजी मार्ग स्थित आवास पर ले जाने से पहले उन्हें तीनों सेनाओं ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया और राष्ट्रपति तथा अन्य महानुभाव ने मौन रख कर दिवंगत आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना की। सोमवार दोपहर तीन बजे से कलाम की पार्थिव देह को उनके आवास पर रखा गया है जहां बड़ी संख्या में लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। हवाईअडडे से फूलों से सजे वाहन पर कलाम की पार्थिव देह को 12 किलोमीटर दूर उनके आवास तक लाया गया। दिवंगत आत्मा को अंतिम श्रद्धांजलि देने वालों में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तीनों सेनाओं के प्रमुख, भाकपा नेता डी राजा, क्रिकेटर और राज्यसभा सदस्य सचिन तेंदुलकर आदि शामिल थे। देश ने युगदृष्टा खोयाः शिवराज मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि देश ने एक युगदृष्टा खो दिया है। कलाम के निधन पर उन्होंने राज्य में सात दिन के राजकीय शोक की घोषणा की। मुख्यमंत्री चैहान ने कहा कि मिसाइलमैन के रूप में प्रसिद्ध दिवगंत डॉ. कलाम एक ऐसे महापुरुष थे, जिनके पास भारत के विकास को लेकर व्यापक दृष्टि और सोच थी। उन्होंने वर्ष 2020 तक भारत को पूर्ण विकसित राष्ट्र बनाने का न केवल सपना देखा, बल्कि उसकी ठोस रूपरेखा भी सामने रखी। उन्होंने आगे कहा कि साधारण पारिवारिक पृष्ठभूमि से होते हुए भी डॉ. कलाम अपनी प्रतिभा और परिश्रम से देश के सर्वोच्च पद पर आसीन हुए। उन्होंने मध्य प्रदेश के लोगों और स्वयं की ओर से कलाम को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उनके निधन से पूरा देश शोक में है। प्रदेश के राज्यपाल रामनरेश यादव ने भी कलाम के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा कि वे एक श्रेष्ठ वैज्ञानिक के साथ अच्छे प्रशासक भी थे। केरल विधानसभा ने कलाम को दी श्रद्धांजलि केरल के विधायकों ने भी कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित की। कलाम ने ठीक 10 साल पहले केरल विधानसभा को संबोधित किया था। विधानसभा अध्यक्ष एन.सकतन ने कहा, उन्होंने 10 साल पहले हम सभी को ज्ञान की रोशनी दिखाई। उन्होंने जाने से पहले परिसर में एक पौधा लगाया था, जो परिसर की गरिमा बढ़ा रहा है। केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने कहा, उन्होंने बेहतरीन व्याख्यान दिया था। उन्होंने हमें बताया कि लक्ष्य हासिल करने के लिए क्या किया जाना चाहिए। विधानसभा ने उनके निर्देशों पर चर्चा की और एक प्रस्ताव पारित किया। उन्होंने कहा, राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद भी उन्होंने देशभर में व्याख्यान दिए। वह असल मायने में एक महान व्यक्ति थे। विपक्ष के नेता वी.एस.अच्युतानंदन ने कहा कि वह कलाम ही थे, जिनकी वजह से राष्ट्रपति भवन लोगों से जुड़ने में सफल रहा। उन्होंने कहा, एक वैज्ञानिक के रूप में उनकी प्रतिबद्धता और विनम्रता को सभी ने सराहा। कलाम के निधन पर तेलंगाना में अवकाश घोषित तेलंगाना सरकार ने देश के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के निधन पर मंगलवार को राज्य में अवकाश की घोषणा की। मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने राज्य के मुख्य सचिव राजीव शर्मा को निर्देश दिया कि वह मंगलवार को अवकाश के संबंध में निर्देश जारी करें। इस दौरान हैदराबाद तथा तेलंगाना के नौ अन्य जिलों में भी राज्य के सभी सरकारी कार्यालय और शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे। निजी स्कूलों और कॉलेजों प्रबंधनों ने भी अवकाश की घोषणा की है। परिजन रामेश्वरम में चाहते हैं कलाम की अंत्येष्टि पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे अब्दुल कलाम की अंत्येष्टि उनके पैतृक गांव रामेश्वर में होगी, जैसी कि उनके परिजनों की इच्छा है। कलाम के एक करीबी रिश्तेदार ए.पी.जे.एम.के. शेख सलीम ने फोन पर बताया, ष्बड़ी संख्या में रिश्तेदार, मित्र, शुभचिंतक और आम लोग रामेश्वरम स्थित कलाम के घर में एकत्रित हुए हैं। सलीम पूर्व राष्ट्रपति के भाई ए.पी.जे.एम. मरैकयर के बेटे हैं। रामेश्वरम चेन्नई से करीब 600 किलोमीटर दूर है और रामेश्वरम जिले के अंतर्गत आता है। ‘मिसाइल मैन’ कलाम का जन्म रामेश्वर में हुआ था और बचपन बेहद गरीबी में बीता था। सलीम ने कहा कि कलाम के परिजन उनकी अंत्येष्टि के लिए संभावित जगह पर भी विचार-विमर्श कर रहे हैं। सलीम ने कहा, ष्कलाम सभी के लिए अच्छे शिक्षक थे। उन्होंने मानवीय और पारिवारिक मूल्य सिखाए। मैंने उनकी कुछ परियोजनाओं में पांच वर्षो तक काम किया।ष् उन्होंने बताया कि कलाम के रामेश्वरम स्थित आवास पर उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा हुआ है। कलाम देश के विकास, कल्याण से जुड़े थेरू माणिक सरकार त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने मंगलवार को देश के पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे अब्दुल कलाम के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने स्वयं को देश के विकास और कल्याण से जोड़ रखा था। सरकार ने जारी बयान में कहा, ष्कलाम ने देश के विकास और नागरिकों के कल्याण से स्वयं को जोड़ रखा था। बच्चों और युवाओं के लिए कलाम के मन में विशेष स्थान था। त्रिपुरा मंत्रिमंडल ने पूर्व निर्धारित बैठक में शिलांग में सोमवार को कलाम के निधन पर शोक व्यक्त किया। त्रिपुरा में विपक्षी पार्टी कांग्रेस के नेता सुदीप रॉय बर्मन और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष सुधींद्र दासगुप्ता सहित विभिन्न पार्टियों के नेताओं ने भी कलाम के निधन पर शोक व्यक्त किया। 25 जुलाई, 2002 में देश का राष्ट्रपति बनने के बाद कलाम ने चार अक्टूबर 2002 को अपने पूर्वोत्तर भारत के दौरे के पहले पड़ाव के तहत त्रिपुरा की यात्रा की थी।


Printed, Published, & Edited by :Bansi Lal Gupta
Published FromNav Jammu Offfice, Chand Nagar, Below Gumat, Jammu.
Printed atNav Jammu Printers, Chand Nagar, Below Gumat, Jammu.
RNL Reg.NoJKENG/2013/11218
Email :navjammu@yahoo.com
Phone/ Fax : 2547948

Disputes if any may be settled only Jammu Jurisdiction
Copyright 2015 by Nav Jammu